HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Haryana State Board HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

HBSE 9th Class English The Lost Child Textbook Questions and Answers

Think about It

Question 1.
What are the things the child sees on his way to the fair? Why does he lag behind?
(मेले में जाते समय बच्चा रास्ते में कौन-कौन-सी चीजें देखता है? वह पीछे क्यों रह जाता है?)
Answer:
On his way to the fair, the boy sees many things. He sees beautiful toys in a shop. Then he sees a group of dragon-flies and tries to catch one. Then he sees some little insects and worms and gets attracted towards them. A shower of young flowers and cooing of doves also fascinate him. He is greatly attracted towards them. So he is lagging behind.

(मेले में जाते समय, लड़का कई चीजों को देखता है। वह एक दुकान में सुंदर खिलौने देखता है। तब उसे ड्रैगन-मक्खियों का एक झुंड दिखाई देता है और वह उनमें से एक को पकड़ने का प्रयास करता है। तब उसे कुछ छोटे-छोटे कीट और कीड़े दिखाई देते हैं और वह उनकी ओर आकर्षित हो जाता है। छोटे-छोटे फूलों की बौछार और फाख्तों की कू-कू की आवाज उसे आकर्षित करती है। वह उन सभी चीजों की ओर बहुत आकर्षित होता है। इसलिए वह पीछे रह जाता है।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 2.
In the fair he wants many things. What are they? Why does he move on without waiting for an answer?
(मेले में वह कई चीजें लेना चाहता है। वे कौन-कौन सी चीजें हैं? उत्तर की प्रतीक्षा किए बिना वह आगे क्यों बढ़ जाता है?)
Answer:
In the fair, the boy wants to buy a toy, burfi, a garland of gulmohur flowers and balloons of different colours. Everytime he moves forward without waiting for an answer because he knows that his parents will not buy any of these things for him.

(मेले में लड़का खिलौना, बी, गुलमोहर के फूलों की माला और भिन्न-भिन्न रंगों के गुब्बारे खरीदना चाहता है। हर बार बिना किसी उत्तर की प्रतीक्षा किए वह आगे बढ़ जाता है क्योंकि वह जानता है कि उसके माता-पिता उसके लिए ये चीजें नहीं खरीदेंगे।)

Question 3.
When does he realise that he has lost his way? How have his anxiety and insecurity been described?
(उसे इस बात का अहसास कब होता है कि वह खो गया है? उसकी चिंता व असुरक्षा का किस प्रकार से वर्णन किया गया है?)
Answer:
The child sees a roundabout. He is attracted by it. He turns to his parents to make a request for a ride in the roundabout. But his parents are not there. So he realises that he has lost his way. A full deep cry rises within his dry throat. With a sudden jerk of body he begins to run here and there searching for his father and mother.

(बच्चे को एक झूला दिखाई देता है। वह उससे आकर्षित हो जाता है। झूला झूलने के लिए अपने माता-पिता से प्रार्थना करने हेतु वह उनकी ओर मुड़ता है। लेकिन उसके माता-पिता वहाँ पर नहीं हैं। अतः उसे अहसास होता है कि वह अपना रास्ता भूल गया है। उसके सूखे गले से एक गहरी चीख निकलती है। शरीर के एकदम झटके के साथ अपने पिता और माता की खोज में वह इधर-उधर भागना शुरू कर देता है।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 4.
Why does the lost child lose interest in the things that he had wanted earlier?
(बच्चा उन सभी चीजों में रुचि क्यों खो देता है जिन्हें वह पहले प्राप्त करना चाहता था?)
Answer:
The child loves his parents more than anything else. So long as he is with his parents, he wants to, buy a number of things. But when he is separated from his parents, he starts weeping. Now he does not want any thing. He wants only his parents. Now he loses interest in the things that he had wanted earlier.

(बच्या अन्य किसी चीज की अपेक्षा अपने माता-पिता से अधिक प्यार करता है। जब तक वह अपने माता-पिता के साथ रहता है, तो वह बहुत सारी चीजें खरीदने की इच्छा रखता है। लेकिन जब वह अपने माता-पिता से अलग हो जाता है, तो वह रोना शुरू कर देता है। अब उसे किसी भी चीज की इच्छा नहीं होती है। उसे तो केवल अपने माता-पिता चाहिए। जिन चीजों को वह पहले प्राप्त करना चाहता था अब उनमें कोई रुचि नहीं लेता है।)

Question 5.
What do you think happens in the end? Does the child find his parents’.
(आपके विचार में अंत में क्या होता है? क्या बच्चे को उसके माता-पिता मिल जाते हैं?)
Answer:
The child is separated from his parents in the fair. He starts crying. A kind hearted man takes pity on him and carries him in his arms. He helps him to trace out his parents. It seems possible that with the help of that man the child finds his parents.

(मेले में बच्चा अपने माता-पिता से अलग हो जाता है। वह रोना शुरू कर देता है। एक दयाल उदय वाला इंसान उस पर
ना है और उसे अपनी बाँहों में उठा लेता है। वह उसकी उसके माता-पिता को ढूंढने में सहायता करता है। ऐसा संभव प्रतीत होता है कि शायद बच्चे को उस व्यक्ति की सहायता से उसके माता-पिता मिल गए होंगे।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

HBSE 9th Class English The Lost Child Important Questions and Answers

Very Short Answer Type Questions

Question 1.
Which festival does the child visit with his parents?
Or
What festival were the people going to celebrate in the chapter “The Lost Child”?
Answer:
The child visits the festival of spring with his parents.

Question 2.
What was the boy fascinated first of all while he was on his way to the fair?
Answer:
He was fascinated by the toys in the shops that lined the way.

Question 3.
When did the father look at the boy with red-eyes?
Answer:
The father looked at the boy with red-eyes when he made a demand for toys.

Question 4.
What did the little boy try to catch while passing through the field?
Answer:
He tried to catch the dragon flies while passing through the field.

Question 5.
What was the boy’s favourite sweet?
Answer:
The boy’s favourite sweet was burfi.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 6.
What was the flower hawker selling?
Answer:
The flower hawker was selling a garland of gulmohur flowers.

Question 7.
For what thing did the boy make a bold request?
Answer:
The boy made a bold request for going on the roundabout.

Question 8.
How does the boy feel when he is on his way to the fair?
Answer:
The boy is happy and excited and wants all the things he sees on the way.

Question 9.
When the boy found his parents missing, what was his first reaction?
Answer:
A full deep cry rose within his dry throat and with a sudden jerk of his body, he ran from where he stood crying in real fear for his father and mother.

Question 10.
Of what colour clothes were the people wearing in the fair?
Answer:
They were wearing yellow clothes.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 11.
Where was the thickest crowd in the fair?
Answer:
At the gate of the temple there was the thickest crowd.

Question 12.
Who saved the boy from being crushed at the temple gate?
Answer:
A man saved him by lifting him in his arms.

Question 13.
What did the man offer the boy to buy from the fair?
Answer:
The man offered the boy to buy sweets, balloons, a ride on the roundabout and a garland of gulmohur flowers.

Question 14.
What did the boy buy from the fair?
Answer:
He bought nothing from the fair.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Short Answer Type Questions

Question 1.
How did the father distract the child’s mind from the foy-seller?
(पिता ने बच्चे का ध्यान खिलौने बेचने वाले की ओर से कैसे हटाया?)
Answer:
The child saw a toy-seller. He told his parents that he wanted to buy a toy. But his father was stem. He looked at him with anger. The child was familiar with his father’s strict ways. So he did not insist on buying the toy.

(बच्चे ने एक खिलौने बेचने वाला देखा। उसने अपने माता-पिता से कहा कि वह एक खिलौना खरीदना चाहता है। मगर उसका पिता कठोर था। उसने बच्चे की तरफ गुस्से से देखा । बच्चा अपने पिता के कठोर व्यवहार से परिचित था। इसलिए उसने खिलौना खरीदने पर जोर नहीं दिया।)

Question 2.
There were somethings he knew his parents would not buy for him, so he did not ask for them. What were these?
(कुछ ऐसी चीजें थीं जो वह जानता था कि उसके माता-पिता उसे खरीदकर नहीं देंगे, इसलिए उसने उनकी मांग नहीं की। वे कौन-सी चीजें थीं?)
Answer:
The child knew his parents well. He wanted to have a garland of gulmohur flowers. But he knew that his parents would say that the flowers were very cheap. Then he wanted to buy balloons. But he knew that his parents would say that he was too big to play for them. So he did not ask his parents for garlands and balloons.

(बच्चा अपने माता-पिता को अच्छी प्रकार जानता था। वह गुलमोहर के फूलों की एक माला खरीदना चाहता था। मगर वह जानता था कि उसके माता-पिता कहेंगे कि फूल तो सस्ती-सी वस्तु है। फिर वह गुब्बारे खरीदना चाहता था। मगर वह जानता था कि उसके माता-पिता कहेंगे कि वह इतना बड़ा है कि गुब्बारों से नहीं खेल सकता। इसलिए उसने अपने माता-पिता को मालाओं और गुब्यारों के लिए नहीं कहा।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 3.
How did the child try to catch one of the dragon-flies? Was he able to catch one?
(बच्चे ने ड्रेगन-मक्खी को पकड़ने का प्रयत्न कैसे किया? क्या वह कोई एक पकड़ने में सफल हो गया?)
Answer:
There was a mustard-field before the child. He saw a group of dragon-flies in the field. He was attracted towards them. One dragon-fly stilled its wings and rested. The boy tried to catch it. But it flew away and the child could not catch it.

(बच्चे के सामने सरसों का खेत था। उसने वहाँ ड्रैगन मक्खियों का झुंड देखा। वह उनकी तरफ आकर्षित हुआ। एक जैगन-मक्खी ने अपने पंख रोककर आराम किया। बच्चे ने उसे पकड़ने का प्रयत्न किया। मगर वह उड़ गई और बच्चा उसे नहीं पकड़ सका।)

Question 4.
Describe the village scene when people were heading towards the fair.
(गाँव के दृश्य का वर्णन करो जब लोग मेले की ओर जा रहे थे।)
Answer:
It was spring time. A crowd of men, women and children was going to the fair. They were dressed in colourful clothes. Some of them were on foot, some rode on horses, while others went in bullock carts. There were many shops on the way. People were in a joyful mood.

(वसंत का मौसम था। पुरुषों, औरतों और बच्चों की भीड़ मेले में जा रही थी। उन्होंने रंग-बिरंगे कपड़े पहने हुए थे। उनमें से कुछ पैदल थे, कुछ घोड़ों पर थे जबकि अन्य लोग बैलगाड़ियों में थे। रास्ते में बहुत-सी दुकानें थीं। लोगों के मन में खुशी थी।)

Question 5.
What was the child’s reaction on seeing the sweets-seller?
(मिठाई वाले को देखकर बच्चे की क्या प्रतिक्रिया बीट)
Answer:
The child saw a man selling sweets. He was crying, “gulab-jaman, rasagulla, burfi, jalebi.” His shop displayed a number of sweets. These looked good and mouth-watering. Burfi was the child’s favourite sweet. So he told his parents that he wanted some burfi.

(बच्चे ने एक व्यक्ति को मिठाइयाँ बेचते हुए देखा। वह चिल्ला रहा था, “गुलाब जामुन, रसगुल्ला, बर्फी, जलेबी।” उसकी दुकान में बहुत-सी मिठाइयों सजी हुई थीं। ये अच्छी और मुँह में पानी लाने वाली लग रही थीं। बर्फी बच्चे की प्रिय मिठाई थी। इसलिए उसने अपने माता-पिता से कहा कि उसे कुछ वर्फी चाहिए।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 6.
How did the mother distract the child’s mind from the toy-seller?
(माता ने बच्चे का ध्यान खिलोने बेचने वाले की ओर से कैसे हटाया?)
Answer:
On his way to the fair, the child was fascinated by the toys. He logged behind. His mother called him to come. She offered him her finger and encouraged him to look what was before him.

(मेले में जाते समय बच्चा खिलौनों से आकर्षित होता है। वह पिछड़ जाता है। उसकी माँ उसे बुलाती है। वह उसे अपनी उँगली पकड़ाती है और उसके पास जो कुछ है उसे देखने के लिए उत्साहित करती है।)

Question 7.
Who rescued the lost child? What did he offer him?
(कौन खोए हुए बच्चे को बचाना चाहता था? उसने उसे क्या-क्या प्रस्ताव दिए वे?)
Answer:
A kind man rescued the lost child when he saw the child crying. He lifted him up in his arms and tried to soothe him. He took the child to the snake-charmer. Then he offered to buy balloons for him. He offered to buy him flowers. Then he took him to the sweets shop. But the child did not want to buy anything, He wanted only to be united with his parents.

(एक दयालु व्यक्ति खोए हुए बच्चे को बचाना चाहता था जब उसने बच्चे को रोते देखा। उसने उसे बाहों में उठा लिया और शांत करने का प्रयत्ल किया। वह उसे सपेरे के पास ले गया। तब उसने उसे गुब्बारे खरीदकर देने चाहे। उसने उसे फूल देने की पेशकश की। तब वह उसे मिठाई की दुकान पर ले गया। मगर बच्चा कुछ भी खरीदना नहीं चाहता था। वह केवल अपने माता-पिता से मिलना चाहता था।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Essay Type Questions

Question 1.
Write a note on the theme of the story ‘The Lost Child’.
(‘The Lost Child’ कहानी की कथावस्तु पर एक टिप्पणी लिखो।)
Answer:
The story “The Lost Child’ is based on child psychology. A child is curious by nature. He is attracted by beautiful things. He wishes to possess everything which looks attractive. However, he takes interest in these things only when he is in the company of his parents. But when he is lost, these things lose their charm for him.

In this story, a child goes to a fair with his parents. He is attracted by different things. He wishes to buy balloons, sweets and garlands of gulmohur. He wishes to enjoy a ride in the roundabout. But suddenly he finds that his parents are missing. Now he starts weeping. A kind man tries to console him. He offers to buy him a number of things. But the child goes on weeping. He wants only his parents.

(‘The Lost Child’ कहानी बच्चों के मनोविज्ञान पर आधारित है। बच्चा स्वभाव से उत्सुक होता है। वह सुंदर वस्तुओं की तरफ आकर्षित होता है। वह हर उस वस्तु को पाना चाहता है जो आकर्षक लगती है। लेकिन वह इन वस्तुओं में केवल तभी रुचि लेता है जब वह अपने माता-पिता के साथ होता है। लेकिन जब वह खो जाता है, तो उसके लिए इन वस्तुओं का आकर्षण भी खत्म हो जाता है।

इस कहानी में, एक बच्चा अपने माता-पिता के साथ एक मेले में जाता है। वह विभिन्न वस्तुओं की तरफ आकर्षित होता है। वह गुब्यारे, मिठाइयाँ और गुलमोहर की मालाएँ खरीदना चाहता है। वह झूले में सवारी करना चाहता है। मगर अचानक वह देखता है कि उसके माता-पिता खो गए हैं। अब वह रोने लगता है। एक दयालु व्यक्ति उसे सांत्वना देने का प्रयत्न करता है। वह उसे बहुत-सी वस्तुएँ खरीदकर देने की पेशकश करता है। मगर बच्चा रोता रहता है। उसे केवल अपने माता-पिता चाहिएँ।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 2.
Give a description of the festival of spring.
(बसंत के त्योहार का वर्णन करो।)
Answer:
The festival of spring was a gay occasion. It was held in a village. A number of people were going to the fair. They were wearing new clothes. Some of them were on foot. Others were in bullock carts and on horses. The fair was full of joy. A little boy was also going to the fair along with his parents. He was very happy. There were several shops selling toys, sweets, balloons, etc.

At a shop, garlands of gulmohur flowers were also being sold. The child wanted to buy balloons, sweets and other things. But his parents rejected his demands. There were snake-charmer also. Near the temple, the crowd was very thick. Some people were enjoying ride in a roundabout. The child also wanted to have a ride in it. But he lost interest when he found his parents missing

(बसत का त्योहार एक खुशी का अवसर था। यह एक गाँव में मनाया गया था। बहुत से लोग मेले में जा रहे थे। उन्होंने नए कपड़े पहने हुए थे। उनमें से कुछ लोग पैदल थे। अन्य लोग बैलगाड़ियों और घोड़ों पर थे। मेला प्रसन्नता से भरा हुआ था। एक छोटा-सा बच्चा भी अपने माता-पिता के साथ मेले में जा रहा था। वह बहुत प्रसन्न था। वहाँ खिलौने, मिठाइयाँ, गुब्बारे आदि बेचने वाली बहुत-सी दुकानें थीं।

एक दुकान में, गुलमोहर के फूलों की मालाएँ भी बिक रही थीं। बच्चा गुब्बारे, मिठाइयाँ एवं अन्य वस्तुएँ खरीदना चाहता था। मगर उसके माता-पिता ने उसकी माँगों को ठुकरा दिया। वहाँ पर सपेरे भी थे। मंदिर के पास भीड़ बहुत .घनी थी। कुछ लोग एक झूले में सवारी का आनंद उठा रहे थे। बच्चा भी इसकी सवारी करना चाहता था। मगर जब उसने देखा कि उसके माता-पिता खो गए हैं तो उसकी रुचि समाप्त हो गई।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 3.
What were the things that the boy wanted to possess when he was with his parents?
(जब बच्चा अपने माता-पिता के साथ या तो वह किन वस्तुओं को लेना चाहता था?)
Answer:
The child went to a village fair with his parents. He saw several stalls of sweets and toys. At first, he liked a beautiful toy. He asked his parents to buy him that toy. But his father called him away from that shop. Then he tried to catch a butterfly. But he did not succeed. After that he saw a sweets-seller. He wanted to have some burfi. But his father rejected his demand.

Then he saw someone selling garlands of gulmohur flowers. The child wanted to buy a garland. But this demand was also rejected. After that he wanted to buy a balloon. His father did not buy it for him. Then the child saw a snake-charmer. He wanted to stop and hear the music of his flute. But he feared his father. So he went on. In the end, he wanted to have a ride in a roundabout. But his parents were nowhere to be seen.

(बच्चा अपने माता-पिता के साथ गाँव के एक मेले में गया। उसने मिठाइयों और खिलौनों की बहुत-सी दुकानें देखीं। आरंभ में उसे एक सुंदर खिलौना अच्छा लगा। उसने अपने माता-पिता से कहा कि उसे वह खिलोना खरीद दें। मगर उसके पिता ने उसे दुकान से बुला लिया। तब उसने एक तितली को पकड़ने का प्रयत्न किया। मगर वह सफल नहीं हुआ। उसके बाद उसने एक मिठाई बेचने वाला देखा। वह कुछ बर्फी खरीदना चाहता था।

मगर उसके पिता ने उसकी माँग ठुकरा दी। तब उसने किसी को गुलमोहर के फूलों की मालाएँ बेचते हुए देखा। बच्चा एक माला खरीदना चाहता था। मगर यह मांग भी ठुकरा दी गई। उसके पश्चात वह एक गुब्बारा खरीदना चाहता था। उसके पिता ने उसके लिए इसे भी नहीं खरीदा। तब बच्चे ने एक सपेरा देखा। वह रुक कर उसकी बाँसुरी का संगीत सुनना चाहता था। मगर वह अपने पिता से डरता था। इसलिए वह चलता गया। अंत में, वह एक झूले की सवारी करना चाहता था। मगर उसे अपने माता-पिता कहीं भी नज़र नहीं आए।)

Question 4.
Describe the condition of the child after he had lost his parents at the fair.
(अपने माता-पिता को मेले में खो देने के बाद बच्चे की जो अवस्था थी, उसका वर्णन करो।)
Or
Describe the changes that occurred in the child in the spring festival.
(बसंत के मेले में बच्चे में जो परिवर्तन आए, उनका वर्णन करो।)
Answer:
The child went to the fair along with his parents. He was very happy. He was attracted by the colourful and beautiful things. He saw balloons, flower garlands, toys and sweets. He saw a juggler showing tricks. He also saw a roundabout. But he was sad because his parents rejected all his demands. They did not purchase anything for him. He could not enjoy the juggler’s tricks. Then he wanted to have a ride on the roundabout.

He turned to ask his parents. But he found them missing. He was separated from them. Now a sudden change came in the child. He started crying for his parents. A kind man tried to console him. But the child lost interest in everything. He wanted to join his parents again. He cried, “I want my mother, 1 want my father!”

(बच्चा अपने माता-पिता के साथ मेले में गया। वह बहुत प्रसन्न था। वह रंग-बिरंगी एवं सुंदर वस्तुओं की तरफ आकर्षित हुआ। उसने गुब्बारे, फूलों की मालाएँ, खिलौने एवं मिठाइयाँ देखीं। उसने एक सपेरे को करतब दिखाते हुए देखा। उसने एक झूला भी देखा। मगर वह उदास था, क्योंकि उसके माता-पिता ने उसकी सारी माँगे ठुकरा दीं। उन्होंने उसके लिए कुछ भी नहीं खरीदा। वह सपेरे के करतबों का आनंद नहीं उठा सका। तब वह झूले की सवारी करना चाहता था।

वह अपने माता-पिता से पूछने के लिए महा। मगर उसने उन्हें गायव पाया। वह उनसे बिछुड़ गया। अब बच्चे में अचानक एक परिवर्तन आया। उसने अपने माता-पिता के लिए रोना आरंभ कर दिया। एक दयालु व्यक्ति ने उसे सौंत्वना देने का प्रयत्न किया। मगर बच्चे की किसी भी वस्तु में रुचि नही थी। वह फिर से अपने माता-पिता से मिलना चाहता था। वह चिल्लाया, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए!”)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Multiple Choice Questions

Question 1.
Which festival does the child visit with his parents?
(A) Dussehra festival
(B) Diwali festival
(C) Spring festival
(D) Holi festival
Answer:
(C) Spring festival

Question 2.
Who else was with the boy when he was going to the fair?
(A) his friends
(B) his class teacher
(C) his parents
(D) his elder brother
Answer:
(C) his parents

Question 3.
What thing attracted the boy first of all when he entered the fair?
(A) toys
(B) jalebi’s
(C) kite
(D) flowers
Answer:
(A) toys

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 4.
When did the father look at the boy with red-eyes?
(A) at the demand of flowers
(B) at the demand of sweets
(C) at the demand of a ride in a see-saw
(D) at the demand of toys
Answer:
(D) at the demand of toys

Question 5.
They passed through a field full of……………… flowers.
(A) run
(B) mustard
(C) rose
(D) marigold
Answer:
(B) mustard

Question 6.
What did the little boy try to catch while passing through the fiel?
(A) the dragon flies
(B) sparrows
(C) a kite
(D) none of these
Answer:
(A) the dragon flies

Question 7.
How was the boy feeling while going to the fair?
(A) sad
(B) unhappy
(C) gay
(D) dissatisfied
Answer:
(G) gay

Question 8.
What happened when the child entered the grove?
(A) he struck against a tree
(B) a shower of flowers fell on him
(C) he. got a mango fruit
(D) he saw many beehives in the garden
Answer:
(B) a shower of flowers fell on him

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 9.
What was the child’s favourite sweet?
(A) gulab-jamun
(B) rasagulla
(C) jalebi
(D) burfi
Answer:
(D) burfi

Question 10.
What was the flower-hawker selling?
(A) a garland of gulmohur
(B) a garland of roses
(C) a garland of champaks
(D) a garland of marigold
Answer:
(A) a garland of gulmohur

11. For what the boy made a bold request?
(A) buying balloons
(B) buying a garland of gulmohur
(C) buying flutes
(D) going on the roundabout
Answer:
(D) going on the roundabout

Question 12.
Why did a full, deep cry rise within his dry throat?
(A) his parents refused him going on the roundabout
(B) his father slapped him
(C) he had lost his parents
(D) he stumbled onto the ground
Answer:
(C) he had lost his parents

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 13.
Of what colour clothes were the people wearing in the spring fair?
(A) red
(B) yellow
(C) green
(D) blue
Answer:
(B) yellow

Question 14.
Why did the boy run through people’s legs?
(A) he was enjoying the crowd
(B) he was searching his parents.
(C) he was trying to catch his younger sister
(D) he was playing a game
Answer:
(B) he was searching his parents .

Question 15.
Where was the thickest crowd in the fair?
(A) near the temple
(B) near the roundabout
(C) near the sweet shop
(D) near the snake charmer
Answer:
(A) near the temple

Question 16.
Who lifted the child in his arms?
(A) a man
(B) the boy’s father
(C) the boy’s mother
(D) the boy’s elder brother
Answer:
(A) a man

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

Question 17.
The man asked the boy which things he wanted from the fair ? The boy answered
(A) I want my father and mother
(B) I want a ride in the roundabout
(C) I want burfi
(D) I want balloons
Answer:
(A) I want my father and mother

Question 18.
What was the snake doing?
(A) running here and there
(B) swaying onto the flute
(C) hissing and sparing1 furiously
(D) none of these options
Answer:
(B) swaying onto the flute

Question 19.
The man asked the boy to listen the sweet music of the flute of the snake charmer. What did the boy do?
(A) he enjoyed listening the music
(B) he ran away from there
(C) he shut his ears with his finger
(D) he himself started playing the flute
Answer:
(C) he shut his ears with his finger

Question 20.
Where did the man take the boy to?
(A) the sweet shop
(B) the balloon seller
(C) the snake charmer
(D) all the options are correct
Answer:
(D) all the options are correct

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

The Lost Child Summary

‘The Lost Child’ Introduction in English

The Lost Child’ is one of the famous stories of Mulk Raj Anand. This story shows the working of a child’s mind. It shows that a child has great love for his parents. In this story, a child goes to see the village fan- in the company of his father and mother. He is attracted by different things in the fair.

He asks his parents again and again to buy him something or the other. But they don’t buy anything for him. By chance, the child gets separated from his parents. He starts weeping. He runs here and there shouting for his parents. A kind man sees him. He tries to console the child. He takes him to different shops. But the child goes on weeping. Now he has lost interest in everything. He only cries, “I want my mother, I want my father!”

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

‘The Lost Child’ Summary in English

The Lost Child’ is an interesting story. It describes the working of a child’s mind. In this story, a child wants to buy a number of things. He feels sad when his parents don’t buy anything for him. But when he is separated from his parents, he loses interest in everything.

It was the festival of spring. A large number of men, women and children were going to the fair. They were dressed in new clothes. They were in a happy mood. A child was also going with his parents to the fair. He was very happy. He was attracted by various things. He lagged behind again and again. His parents called him to come along. The child ran and joined his parents.

The child wished to buy a toy from a toy shop. But his father stared at him with his red eyes. There was a mustard field on the way. The boy saw a beautiful butterfly in the field. He tried to catch it. His parents again called him. After sometime, the child’s parents rested under a banyan tree near a well. The child began to gather the fallen petals.

At last, they reached the fair. The child saw a sweet-seller. He desired to have some burfi. But he knew that his father would not buy it for him. He would call him greedy. So he did not press his demand. He then wished to enjoy a juggler’s tricks. He also wanted to have balloons and flowers. But he knew that his parents would not agree to his demands. So he moved on along with them.

Then the child saw a ‘roundabout’. He wished to enjoy a ride on that roundabout. He called his parents. But there was no reply. He turned back. His parents were nowhere to be seen. His heart was filled with fear. He started weeping. He ran about crying, “Mother, father.” He looked everywhere in the fair. But he could not find them anywhere. A kind man lifted him up in his arms. He tried to console the child. The man took him to the flower-seller, balloon-seller, snake-charmer and the joy-ride. But the child had lost interest in everything.
He went on crying, “I want my mother, I want my father!”

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

‘The Lost Child’ Introduction in Hindi

‘The Lost Child’ मुलक राज आनंद की प्रसिद्ध कहानियों में से एक है। यह कहानी एक बच्चे के मन की कार्यप्रणाली को दर्शाती है। यह दर्शाती है कि बच्चे को अपने माता-पिता से बहुत प्यार होता है। इस कहानी में, एक बच्चा अपने माता-पिता के साथ गाँव का एक मेला देखने जाता है। वह मेले में विभिन्न वस्तुओं की तरफ आकर्षित होता है।

वह अपने माता-पिता को बार-बार कहता है कि वे उसे कुछ खरीद दें। मगर वे उसके लिए कुछ नहीं खरीदते। संयोगवश, बच्चा अपने माता-पिता से बिछुड़ जाता है। वह रोना आरंभ कर देता है। वह अपने माँ-बाप के लिए चिल्लाता हुआ यहाँ-वहाँ दौड़ता है। एक दयालु व्यक्ति उसे देखता है। वह बच्चे को सांत्वना देने का प्रयत्न करता है। वह उसे कई दुकानों पर ले जाता है। मगर बच्चा रोता रहता है। अब उसकी प्रत्येक वस्तु से रुचि समाप्त हो गई है। वह केवल चिल्लाता है, ‘मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए!’

‘The Lost Child’ Summary in Hindi

एक रोचक कहानी है। यह एक बच्चे के मन की कार्यप्रणाली को दर्शाती है। इस कहानी में, एक बच्चा बहुत-सी चीजें खरीदना चाहता है। वह तब उदास हो जाता है जब उसके माता-पिता उसके लिए कुछ भी नहीं खरीदते। मगर जब वह अपने माता-पिता से बिछुड़ जाता है, तो प्रत्येक वस्तु में उसकी रुचि समाप्त हो जाती है।

बसंत का त्योहार था। बहुत से आदमी, औरतें एवं बच्चे मेले में जा रहे थे। उन्होंने नए कपड़े पहने हुए थे। वे मुद्रा में थे। एक बच्चा भी अपने माता-पिता के साथ मेले में जा रहा था। वह बहत प्रसन्न था। वह विभिन्न वस्तुओं की तरफ आकर्षित होता था। वह बार-बार पीछे रह जाता था। उसके माता-पिता उसे साथ आने के लिए बुलाते थे। बच्चा दौड़कर अपने माता-पिता के पास आ जाता था।

बच्चा खिलौनों की एक दुकान से कुछ खिलौने खरीदना चाहता था। मगर उसके पिता ने उसे लाल आँखों के साथ घूरकर देखा। रास्ते में सरसों का एक खेत था। बच्चे ने खेत में एक सुंदर तितली देखी। उसने उसे पकड़ने का प्रयत्न किया। उसके माता-पिता ने फिर पुकारा। कुछ समय के पश्चात, बच्चे के माता-पिता ने एक कुएँ के पास एक बरगद के वृक्ष के नीचे आराम किया। बच्चे ने गिरी हुई पंखुड़ियों को इकट्ठा करना आरंभ कर दिया।

आखिर, वे मेले में पहुँचे। बच्चे ने एक मिठाई बेचने वाला देखा। वह कुछ बर्फी लेना चाहता था। मगर यह जानता था कि उसके पिता उसके लिए बर्फी नहीं खरीदेंगे। वह उसे लालची कहेंगे। इसलिए उसने माँग पर जोर नहीं दिया। तब वह एक सपेरे के करतबों का आनंद उठाना चाहता था। वह गुब्बारे और फूल भी लेना चाहता था। मगर वह जानता था कि उसके माता-पिता उसकी माँगों से सहमत नहीं होंगे। इसलिए वह उनके साथ चलता रहा।

तब बच्चे ने एक झूला देखा। वह उस झूले पर सवारी करने का आनंद उठाना चाहता था। उसने अपने माता-पिता को पकारा। मगर कोई उत्तर न मिला। उसने मड़कर देखा। उसके माता-पिता कहीं भी नजर नहीं आए। उसका दिल भय से भर गया। वह रोने लगा। वह इधर-उधर यह चिल्लाते हुए भागा, “माँ, पिताजी । उसने मेले में सब तरफ देखा। मगर वह उन्हें कहीं भी न ढूँढ पाया। एक दयालु व्यक्ति ने उसे अपनी बाँहों में उठा लिया। उसने बच्चे को सौंत्वना देने का प्रयत्न किया। वह उसे फूल बेचने वाले, गुब्बारे बेचने वाले, सपेरे और झूले के पास ले गया। मगर बच्चे की प्रत्येक वस्तु में रुचि खो चुकी थी। यह चिल्लाता रहा, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए!”

‘The Lost Child’ Word-Meanings

(Page 1):

Festival = day or period of religious or other celebration = त्योहार; lanes a narrow roads = सड़क alleys – narrow passages = तंग गलियाँ: emerged = to come out of place = बाहर आया; gaily-gay= प्रस dad – dressed – सुसज्जित; humanity = the human race= मानवता; bamboo na tall plant = बाँस; bullock carts = oxen carriers = बैलगाड़ियाँ; brimming a to be so full of a liquid – लबालब।

(Page 2):
Lagged behind atogotooslowly= पीछे रह जाना; fascinated= attracted= आकर्षित हुआ;obedientwilling to obey= आज्ञाकारी; lingering a to stay foratime = रुककर; receding = to move backwards = पीछे हटता हुआ; suppress stoput an end to by force = दबाना; refusal = the action of refusing-इंकार: tyrant scruel ruler- क्रूरः tender = have a tender heart = कोमल; mustard field = mustard (plant) field = सरसों का खेत; dragon-liesnan insect with a long thin body = तितलियाँ; bustling-moving here and there – इधर-उधर उड़ना; gaudy = too bright: भड़कीला; purple = a flower = बैंगनी रंग; mapping = to swing = फड़फड़ाते हुए, abreast = side by side = साथ-साथ; Insects a small creatures = कीट; teeming = full of = परिपूर्ण: grovesagroup of trees = वृक्षों का झुंड; banyansa plant = बरगद का वृक्ष।

(Page 3) :
Whirlpool = a place in a river or the sea where there are strong currents moving in circles – भंवर; repelled = pushed = नफरत करना; murmured = a low sound = धीरे से कहा; pole – a long thin piece of wood or metal = खंबा; overwhelming = very great = शक्तिशाली; possess = to have = रखना, लेना; farther = more distant in space = और आगे; roundabout = swing = झूला; shricked = to give a sudden shout = चीखा; dixxy : unable to balance – पागलों जैसा।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

(Page 4):
Convulsed = to make or cause = रूप बिगड़ना; panie-stricken = extremely frightened = पूरी तरह से भयभीत; sobs = to cry noisily = सिसकियाँ; intently = showing eager interest = ध्यान से; shrine – any place that is regarded as holy = समाधि; murderous = intending or likely to murder = कातिल; hefty = big and strong – भारी भरकम; brutala cruel – क्रूर; trampleto cause destruction =कुचलना; stooping a to bend forward- आगे को झुकते हुए: Steered a to direct or control = रास्ता दिखाया; soothes to make quiet or calm = सांत्वना देना।

(Page 5-6):
Distract – to make attention away = ध्यान भंग करना; persuasively able to persuade – मनाते हुए, riterated – to repeat that has already been said = फिर से कहा; humour, amusing – खुश करना; disconsolate= unhappy = दुःखी, पीड़ित।

The Lost Child’ Translation in Hindi

(Page 1)
एक बच्चा अपने माता-पिता के साथ मेले में जाता है। वह प्रसन्न और उत्साहित है और मेले में लगी हुई मिठाइयाँ और खिलौने चाहता है। लेकिन उसके माता-पिता ये चीजें उसके लिए नहीं खरीदते। जब कोई अन्य व्यक्ति उसे ये चीजें देता है तो वह क्यों मना कर देता है।

बसंत का त्योहार था। सुंदर कपड़ों में सुसज्जित एवं प्रसन्न जनता सर्दी की तंग एवं संकरी गलियों की छाया में से निकल कर आ रही थी। कुछ लोग पैदल चल रहे थे, कुछ घोड़ों पर सवार थे, तथा अन्य लोग बाँस की बैलगाड़ियों में बैठे थे। एक छोटा-सा लड़का अपने पिता की टाँगों के बीच दौड़ रहा था, जो जीवन एवं हंसी से भरपूर था।

(Page 2)
जैसे ही वह (बालक) रास्ते की दुकानों के खिलौनों से आकर्षित होकर पीछे रह गया, उसके माता-पिता ने पुकारा, “आओ, बच्चे, आओ।”

वह जल्दी से अपने माता-पिता की तरफ आया, उसके कदम उनकी पुकार के प्रति आज्ञाकारी थे, उसकी आँखें अभी भी अपने से दूर खिलौनों पर टिकी हुई थीं। जब वह वहाँ पहुंचा जहाँ वे उसका इंतजार करने के लिए रुके हुए थे, तो वह अपने दिल की इच्छा को दबा नहीं सका, हालाँकि वह उनकी आँखों की पुरानी, ठंडी इंकार भरी नजरों को भली-भाँति जानता था।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

“मुझे वह खिलौना चाहिए,” उसने प्रार्थना की।

उसके पिता ने अपने चिर परिचित क्रूर स्वभाव की तरह, लाल आँखों से देखा। उसकी माँ, जो दिल की स्वतंत्र भावना से प्रभावित हो गई थी, नरम हो गई और उसे अपनी उंगली पकड़ाते हुए बोली, “देखो, बच्चे, तुम्हारे सामने क्या है।”

यह पिघलते हुए पीले सोने की तरह फूलों वाला पीला सरसों का खेत था जो मीलों तक समतल धरती पर फैला हुआ था।

ड्रेगन मक्खियों का एक झुंड अपने चमकीले बैंगनी पंखों पर इधर-उधर उड़ रहा था और किसी अकेली काली मक्खी या तितली जो फूलों की मिठास की तलाश में थी, उनका रास्ता रोक रही थी। बच्चे ने अपनी नजरों से उनका तब तक पीछा किया, जब तक उनमें से एक ने अपने पंखों को शांत करके आराम नहीं किया और तब उसे पकड़ने का प्रयत्न किया।। उसे अपने हाथ में लगभग पकड़ ही लिया था तो वह फड़फड़ाती हुई हवा में उड़ गई। तब उसकी माँ ने सावधानी की पुकार लगाई। “आओ, बच्चे आओ, पगडंडी पर आ जाओ।’

वह खुशी से अपने माता-पिता की तरफ भागा और कुछ देर तक उनके आगे-आगे चला, लेकिन शीघ्र ही फिर पीछे रह गया क्योंकि वह उन छोटे-मोटे कीट-पतंगों द्वारा आकर्षित हो गया था जो धूप का आनंद उठाने के लिए अपने ठिपने के स्थानों से निकलकर आ रहे थे।

“आओ, बच्चे, आओ!” उसके माता-पिता ने वृक्षों के झंड की छाया में से पुकारा जहाँ वे आराम करने के लिए एक कुएँ के किनारे पर बैठ गए थे। वह उनकी तरफ भागा।

जब वह वृक्षों के झुंड में आया तो बच्चे पर फूलों की बौछार पड़ी, और अपने माता-पिता को भूलकर, अपने ऊपर गिरती हुई पंखुड़ियों को अपने हाथों में इकट्ठा करने लगा। मगर, लो! उसने फाख्ताओं के कूकने की आवाज सुनी और “फाख्ता!, फास्ता!” चिल्लाते हुए अपने माता-पिता की तरफ दौड़ा। बिखरी हुई पंखड़ियाँ उसके भूले हए हायों में से गिर पड़ीं।

आओ, बच्चे, आओ!” उन्होंने बच्चे को पुकारा, जब वह बरगद के वृक्ष के आसपास उछलता हुआ भाग रहा था और उसको उठाकर वे तंग पुमावदार पगडंडी पर चल पड़े, जो सरसों के खेतों के बीच में से मेले को जाता था।

(Page 3)
जब वे गाँव के पास पहुंचे तो बच्चा कई अन्य पगडंडियों को देख सकता था जो लोगों की भीड़ से भरे हुए थे, और जो मेले के स्थान पर केंद्रित हो रहे थे, और संसार की जिस भीड़भाड़ में वह प्रवेश हुआ उससे उसे कुछ धक्का भी लगा और वह आकर्षित भी हुआ।

एक मिठाई विक्रेता प्रवेश द्वार के एक कोने में आवाज लगा रहा था, “गलाब-जामुन, रसगुल्ला, बर्फी, जलेबी,” और भीड़ उसके बहुत सी रंगीन चाँदी एवं सोने की परतों से सुसज्जित मिठाइयों वाले मंच के गिर्द जमघट बनाकर इकट्ठी हो गई। बच्चे ने खुले मुँह से उसे घूरा और उसके मुँह में पानी आ गया क्योंकि बर्फी उसकी मनपसंद मिठाई थी।

“मुझे वह बर्फी चाहिए,” यह धीरे से बुडबुड़ाया। मगर जब वह प्रार्थना कर रहा था तो भी वह जानता था कि उसकी बात की तरफ ध्यान नहीं दिया जाएगा क्योंकि उसके माता-पिता कहेंगे कि वह लालची है। इसलिए, उत्तर की इंतजार किए बिना, वह आगे बढ़ गया।

एक फूल-विक्रेता चिल्ला रहा था, “गुलमोहर की माला, गुलमोहर की माला!” बच्चा बिना विरोध के उसकी तरफ आकर्षित प्रतीत हुआ। वह उस टोकरी के पास गया जहाँ फूलों का ढेर लगा हुआ था और आधा बुडबुड़ाया, “मुझे वह माला चाहिए।” मगर वह अच्छी प्रकार जानता था कि उसके माता-पिता फूल लेने से इंकार कर देंगे क्योंकि वे कहेंगे कि वे सस्ते हैं। इसलिए उत्तर का इंतजार किए बिना वह आगे बढ़ गया।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

एक व्यक्ति बाँस लेकर खड़ा था जिस पर से पीले, लाल, हरे और बैंगनी गुब्बारे उड़ रहे थे। बच्चा उन रेशमी गुब्बारों की इंद्रधनुषी शान से प्रभावित हो गया एवं उसमें उन सबको लेने की तीव्र इच्छा पैदा हुई। मगर वह अच्छी प्रकार जानता था कि उसके माता-पिता उसे गुब्बारे कभी खरीदकर नहीं देंगे क्योंकि वे कहेंगे कि वह इतना बड़ा है कि गुब्बारों से नहीं खेल सकता। इसलिए वह आगे बढ़ गया।

एक सपेरा साँप के आगे बीन बजा रहा था जो कुंडली मारकर पिटारी में बैठा हुआ था, इसका सिर हंस की गर्दन की तरह शानदार ढंग से मुड़ा हुआ था, जब संगीत उसके अदृश्य कानों में एक अदृश्य जलप्रपात के मधुर कलकल की आवाज के साथ जा रहा था। बच्चा सपेरे की तरफ गया। मगर यह जानते हुए कि उसके माता-पिता ने सपेरे द्वारा बजाए गए साधारण संगीत को सुनने को मना किया है, वह आगे बढ़ गया।

वहाँ एक झूला पूरे जोरों पर था। घूमने वाली गति में बैठे हुए आदमी, स्त्रियाँ एवं बच्चे अत्यंत हंसी के साथ चिल्ला रहे थे। बच्चे ने उन्हें ध्यान से देखा और फिर एक निर्भीक प्रार्थना की : “मैं उस झूले पर जाना चाहता हूँ, कृपया, पिताजी, माताजी।”

(Page 4)
कोई उत्तर नहीं मिला। वह अपने माता-पिता को देखने के लिए मुड़ा। वे वहाँ, उसके आगे नहीं थे। वह दोनों तरफ उन्हें देखने के लिए मुड़ा। वे वहाँ नहीं थे। उसने पीछे देखा। उनका कोई निशान नहीं था।

उसके सूखे गले में से गहरी एवं पूरी तेज चीख निकली और अपने शरीर को झटका देकर वह वहाँ से भागा जहाँ वह खड़ा था और वह सचमुच डर से चिल्लाया, “माताजी, पिताजी।” उसकी आँखों से गरम एवं तीव्र आँसू बह निकले; उसका लाल चेहरा डर से पीड़ित था। डर के मारे, वह पहले एक तरफ भागा, फिर दूसरी तरफ; फिर यह न जानते हुए कि कहाँ जाए वह हर दिशा में इधर-उधर भागा। “माताजी, पिताजी,” वह दुःख से बोला। उसकी पीली पगड़ी खुल गई और उसके कपड़े मिट्टी से सन गए।

थोड़ी देर तक उत्तेजना में इधर-उधर भागने के बाद वह हार मानकर खड़ा हो गया; उसका रोना दबकर सुबकियों में बदल गया। अपनी धुंधली आँखों से वह हरी घास पर कुछ दूरी तक पुरुषों एवं स्त्रियों को बातें करते देख सकता था। उसने तीखे पीले कपड़ों के टुकड़ों के बीच में से ध्यान से देखने का प्रयत्न किया, मगर वे लोग जो केवल हंसने एवं बात करने की खातिर हंसते एवं बातें करते प्रतीत होते थे, उनके बीच में उसके माता-पिता का कोई चिह्न नहीं था।

वह फिर तेजी से भागा, इस बार एक मंदिर की तरफ जहाँ लोग भीड़ बनाते हुए प्रतीत होते थे। यहाँ स्थान का हर इंच लोगों द्वारा भरा हुआ था, मगर वह लोगों की टाँगों के बीच में से भागा, उसकी हल्की-हल्की सिसकियाँ बार-बार कह रही थी: “माताजी, पिताजी।”

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 1 The Lost Child

लेकिन मंदिर के प्रवेश-द्वार के पास भीड़ बहुत धनी हो गईः लोग एक दूसरे को धक्के दे रहे थे, कुछ लोग भारी-भरकम थे, उनकी आँखें चमकती हुई एवं कातिलाना थीं और कंघे बड़े-बड़े थे। बेचारे बच्चे ने उनके कदमों के बीच में से रास्ता बनाने का प्रयल किया, मगर उनकी क्रूर हलचल से उसे इधर-उधर टक्कर लगी और वह उनके कदमों तले कुचला जा सकता था, अगर वह अपनी आवाज के पूरे दम से न चीखता, “पिताजी, माताजी!” बढ़ती हुई भीड़ में एक व्यक्ति ने उसकी चीख सुनी एवं बड़ी मुश्किल से झुककर उसे अपनी बाहों में उठा लिया।

“बच्चे, तुम यहाँ कैसे पहुंचे ? तुम किसके बच्चे हो ?” व्यक्ति ने भीड़ से अलग होते हुए पूछा। अब बच्चा पहले से भी तेजी से रोया और केवल चिल्लाया, “मुझे मेरी मौ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए।”
व्यक्ति ने उसे झूले के पास ले जाकर चुप करवाने का प्रयत्न किया। क्या तुम घोड़े की सवारी करोगे ?” उसने झूले के पास पहुंचते हुए धीरे से पूछा। बच्चे का गला हज़ारों तेज सुबकियों में बदल गया और वह केवल चिल्लाया, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए!

(Page 51)
व्यक्ति उस तरफ गया जहाँ सपेरा लहराते हुए नाग के सामने अभी भी बीन बजा रहा था। “उस अच्छे संगीत को सुनो, बच्चे!” उसने प्रार्थना की। मगर बच्चे ने अपने कानों को उंगलियों से बंद कर लिया और दुगने जोर से चिल्लाया : “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए!” यह सोचकर कि गुब्बारों के तेज रंग बच्चे का ध्यान आकर्षित करेंगे और उसे शांत कर देंगे, व्यक्ति उसे गुब्बारों के पास ले गया। “क्या तुम इंद्रधनुष के रंग का गुब्बारा लेना चाहोगे ?”, उसने उसे मनाने के ढंग से पूछा। बच्चे ने अपनी आँखें उड़ते हुए गुब्बारों की तरफ से हटा ली और केवल सुबका, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए।”

बच्चे को अभी भी खुश करने का प्रयत्न करते हुए, व्यक्ति उसे उस गेट के पास ले गया जहाँ फूल विक्रेता बैठा था। “देखो! बच्चे क्या तुम उन सुंदर फूलों को सूंघ सकते हो। क्या तुम अपनी गर्दन में डालने के लिए माला लोगे ?”

(Page 61)
बच्चे ने अपनी नाक टोकरी से दूर हटा ली और फिर से सुबका, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए।”

दुःखी बच्चे को मिठाइयों के उपहार से प्रसन्न करने की बात सोचते हुए व्यक्ति उसे मिठाई की दुकान के कांउटर पर ले गया। “बच्चे, तुम्हें कौन सी मिठाइयाँ चाहिएं ?” उसने पूछा । बच्चे ने अपना चेहरा मिठाई की दुकान से फेर लिया और केवल सुबका, “मुझे मेरी माँ चाहिए, मुझे मेरे पिता चाहिए!”

Leave a Comment

Your email address will not be published.