HBSE 10th Class Social Science Notes History Chapter 6 काम, आराम और जीवन

Haryana State Board HBSE 10th Class Social Science Notes History Chapter 6 काम, आराम और जीवन Notes.

Haryana Board 10th Class Social Science Notes History Chapter 6 काम, आराम और जीवन

1. शहर की विशेषताएँ
→ औद्योगिकरण के साथ शहरीकरण का आरंभा हुआ। 1850 तक शहर गाँवों के समान ही थे। कपड़ा मिलों के कारण मैनचेस्टर आदि ने श्रमिकों को आकर्षित किया। लंदन एक बड़ा था जहाँ 6,75,000 लोग रहते थे।

→ प्रथम विश्वयुद्ध से पूर्व यहां जूता और परिधान, फर्नीचर, धातु, छपाई तथा स्टेशनरी के उद्योग थे। परंतु बाद में मोटरकार और बिजली उपकरणों के उद्योग भी शुरू हो गए थे लंदन में अपराध बढ़ने लगा।

→ 1870 तक लंदन में 20 हजार अपराधी हो चुके थे पुलिस को कानून व्यवस्था की चिंता थी। हर व्यक्ति एक सभ्य व अनुशासित समाज चाहता था। इसी कारण से अपराधियों की गिनती हुई।

→ हेनरी मेह्यू ने लंदन के मजदूरों पर अनेक पुस्तकें लिखीं। उसमें उन्होंने अपराधियों की एक ऐसी सूची बनाई जो केवल अपराध में के द्वारा ही अपना निर्वाह करते थे। इनमें अनेक प्रकार के अपराधी थे।

→ समाज को अनुशासित करने के लिए सजाएं बना दी गई थी। और गरीब को रोजगार देना प्रारंभ किया। 18वीं से 19वीं शताब्दी के शुरू तक फक्ट्रियों में अनेक महिलाएँ भी काम करती थीं। लेकिन कारखाने उनके लिए कुछ समय तक ही रहे; क्योंकि तकनीकी सुधार हो रहा था।

→ 1861 की जलगणना से यह पता चला कि महिलाएँ घरेलू नौकर के रूप में अधिक रूप से कार्यरत हैं। कुछ शहर में अपनी आय को बढ़ाने के लिए आई थीं। 20वीं सदी में महिलाएं फिर से बाहर काम के निकल पड़ी।

→ बच्चों को भी कम वेतन पर काम पर शिक्षा कानून व 1902 से लागू किए गए। फैक्ट्री कानून के अनुसार बच्चों को औद्योगिक कार्यो से बाहर रखा गया।

→ औद्योगिक क्राांति के बाद लोग शहरों की तरफ आने लगे तथा प्रवासी कामगारों के लिए टेनेभेंट्स बना दिये गये जहाँ पर ये रहते थे। शहरों में यह माँग थी कि झोंपड़ियों को हटा दिया जाये।

→ परन्तु यह जल्द ही मान लिया गया कि गरीबों के लिए रहने का इंतजाम करना जरूरी है। परंतु इस चिंता के अनेक कारण थे। जैसे एक कमरे वाले मकानों में जनता के स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा था। इन मकानों में आग लगने का डर था।

→ भारी भीड़ के कारण समाज में भय तथा उथल-पुथल नजर आने लगी थी। 1917 की रूसी क्रांति के बाद यह डर काफी अधिक हो गया था। मजदूरों के आंदोलनों या विद्रोह के कारण आवासीय योजनाएँ प्रारंभ हो गई थी।

→ लंदन को साफ-सुथरा तथा स्वच्छ बनाने के लिए अनेक प्रयत्न प्रारंभ किये गये। बर्लिन तथा न्यूयॉर्क में अपार्टमेंट्स ब्लॉक बनाये गये, परन्तु यहाँ पर किराया नियंत्रण कानून लागू कर दिया गया।

→ वास्तुकार तथा योजनाकार एबेनेजर हावर्ड ने गार्डन सिटी का नक्शा तैयार किया जहाँ पर बहुत सारे पेड़े-पौधे हों। उनका यह विचार था कि ऐसा करने से एक बेहतर नागरिक बनाने में सहायता मिलेगी।

→ मजदूर वर्ग के आवास की समस्या को खत्म करने के लिए ब्रिटिश राज्य सामने आया। उन्होंने 10 लाख मकान बनाए। अब परिवहन व्यवस्था भी जरूरी हो चुकी थी।

→ लंदन के भूमिगत रेलवे ने शहर के भीतर बाहर आने-जाने की समस्या को खत्म किया। इसके साथ ही 1863 को पहली भूमिगत रेल आरंभ की गई, 1880 तक लगभग 4 करोड़ यात्री इसका प्रयोग करने लगे।

HBSE 10th Class Social Science Notes History Chapter 6 काम, आराम और जीवन

2. शहर में सामाजिक बदलावा
→ उत्पाद आदि में बदलावों के कारण पारिवारिक नातेदारी शिथिल पड़ने लगी। बड़े घरो में महिलाएँ स्वयं काम नहीं करती थी। परंतु वे स्वयं को अकेला महसूस करने लगी थीं औरतों के लिए अब औद्योगिक रोजगार समाप्त हो गए।

→ औरतों को केवल घर में ही रहने को कहा जाने लगा, जबकि पुरुष ही अब बाहर जा रहे थे। 20वीं सदी में फिर परिवर्तन आया।

→ औरतों की माँग युद्ध की आवश्यकताएं पूरी करने के लिए की जाने लगी। ब्रिटने में लंदन सीजन मनोरंजन का साधन था जो अमीरों के लिए था। 19वीं सदी में साधारण लोगों के लिए पुस्तकालय, संग्रहालय आदि खोले गए। मजदूर समुद्र किनारे जाकर मनोरंजन करते।

3. शहर में राजनीति
→ 1886 से 1887 तक लंदन में मजदूरों ने दंगे किए। वे अपनी गरीबी से मुक्ति चाहत थे। सन 1889 से 12 दिन तक गोदी के मजदूरों ने हड़ताल की।

4. औपनिवेशिक भारत में शहर
→ 19वीं सदी में अन्य देशों की अपेक्षा भारत में शहरीकरण धीमा था। 20वीं सदी के आरंभ तक केवल 11 प्रतिशत लोग ही शहरों में रहते थे। शहरों में वेयर हाउस, संग्रहालय, घर/दफ्तर बंदरगाह आदि होते थे।

→ 1819 में बम्बई को बम्बई प्रेसीडेंसी की राजधानी माना गया जिसका कारण उसकी उन्नति थी। कपड़ा मिल खुलने के बाद ज्यादा लोग बंबई पहुँचने लगे।

→ समुद्री व्यापार में 20वीं सदी के आरंभ तक बंबई का दबदबा बना रहा। 1850 के पश्चात् बंबई की आबादी में वृद्धि के कारण रहने तथा जल समस्या बढ़ी थी।

→ ऊँची जाति अमीर बड़े-बड़े घरों में रहते थे बंबई की 70% जनता चालो में रहती थी। कमरों के किराए अत्यन्त ऊँचे थे। पानी की समस्या बढ़ रही थी।

→ घर के कामों के लिए सड़कों तथा खाली जगहों का प्रयोग किया जाता था। बहुत-सी चाले मुसलमानों तथा निचली जातियों को नहीं दी जाती थीं।

→ बंबई सात टापुओं को जोड़कर बनाया गया था। इसमें पहली परियोजना 1784 में शुरू की गई। बम्बई बाद में फिल्म उद्योग के लिए भी प्रसिद्ध हो गया।

→ 1987 तक फिल्म उद्योग में 5,20,000 लोग काम करने लगे। यहाँ काम करने के लिए लोग दूर-दूर से आते थे।

HBSE 10th Class Social Science Notes History Chapter 6 काम, आराम और जीवन

5. शहर और पर्यावरण की चुनौती
→ सभी शहरी क्षेत्रों में पर्यावरण उद्योगों के कारण दूषित होने लगा था। हवा, पानी आदि में बेहिसाब प्रदूषण फैला है। 19वीं सदी में कोयले के कारण शहर में काले धुएँ की समस्या फैल गई।

→ इस समस्या को हल करने के लिए पहले लोगों ने कानूनी रास्ते खोजने का प्रयास किया। 1840 तक मैनचेस्टर आदि में प्रदूषण नियंत्रण के लिए कुछ कानून बनाए गए, परंतु ये कानून असफल रहे।

→ इस प्रकार अन्य शहरों में भी कई प्रयत्न किए गए जिससे पानी, हवा आदि को साफ किया जा सके परंतु कुछ ही स्थानों पर सफलता मिल पाई।

Leave a Comment

Your email address will not be published.